अब वक़्त आ गया है, जब आप सब – मिलकर एकजुट हों। ठीक वैसे ही जैसे आज़ादी मांगने के लिए महात्मा गांधी की एक आवाज़ पर देश के नौजवानों ने अपनी पढ़ाई, नौकरी, काम छोड़कर आज़ादी पाने के लिए खुदको झोंका था। वक्त आगया है जब आप और हम सब मिलकर अराजकता से, हिंसा से, बेरोजगारी से, साम्प्रदायिकता से आजादी के लिए लड़े। देश के नौजवान यूनिवर्सिटी-कॉलेज और काम-काज से आज़ाद होकर गाँव शहरी बस्तियों में कमज़ोरों की आवाज़ बन जाए। 
 
मेरे दोस्तों, अब वक़्त आ गया है जब कम से कम दो सप्ताह अपने देश को दें और फिर से गढ़ें बापू के सपनों का भारत। यकीनन, अब वक़्त आ गया है , सड़कों पर उतरने का,आवाज उठाने का, हाथ उठाने का ! 
 
क्योंकि आज यदि आपने आवाज नहीं उठाई तो कल आने वाली नस्लों को जवाब देने के लिए आपके पास कोई शब्द नहीं होंगे, लेकिन हां आपके पास होगा तो सिर्फ और सिर्फ पछतावा…!
 
वक्त आ गया है मेरे दोस्तों
इंतज़ार रहेगा , इंक़लाब !

As we gear up for 2019 Lok Sabha elections in the coming months, we are calling on to young professionals who feel the need to make a difference. This is a call to be part of a campaign #Haathuthao Campaign, a nation wide campaign panning across 100 Lok Sabha Constituency in 13 states in the next 120 days.

The main objective of the campaign is to activate and energize people to start questioning their MPs and to make interference in politics fashionable. The millennial are known for their confidence in themselves, therefore its time to make them realize that its their right to set the agenda for their country, their state and their locality. People need to question their elected representative and hold them to account on the commitments they have made and are now making.

The campaign will target 100 Parliamentary Constituencies in 13 states, reach out over 1 lakh people both online and offline in the next 120 days.